तेरा वैभव अमर रहे मां हम दिन चार रहें न रहें

कभी विश्व गुरु रहे भारत की धर्म संस्कृति की पताका, विश्व के कल्याण हेतू पुनः नभ में फहराये कभी श्रापित हनुमान अपनी शक्तिओं का विस्मरण कर चुके थे, जामवंत जी के स्मरण कराने पर वे राक्षसी शक्तियों को परास्त करते हैंआज अपनी संस्कृति, परम्पराएँ, इतिहास, शक्तियों व क्षमताओं को विस्मृत व कलंकित करते इस समाज को विश्व कल्याणार्थ राह दिखायेगा युग दर्पण सार्थक और सटीक जानकारी का दर्पण तिलक (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र-तिलक संपादक युगदर्पण मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.

YDMS चर्चा समूह

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Monday, December 24, 2012

स्वामी विवेकानन्द जी का 150 वां जयन्ती वर्ष

स्वामी विवेकानन्द सार्ध शती समारोह 

स्वामी विवेकानन्द जी का 150 वां जयन्ती वर्ष समारोह के उपलक्ष्य में कार्यक्रम 
विश्व मंच पर शिकागो सम्मलेन में भारत की धर्म पताका फहराने वाले स्वामी विवेकानन्द जी के जन्म के 150 वें जयन्ती वर्ष समारोह शुभारम्भ 25 दिस. के उपलक्ष्य में इंद्रपुरी का लक्ष्मी नारायण मंदिर समय प्रात: 7.30 बजे संकल्प के रूप में मनाया जायेगा ।  इसी प्रकार से देश भर में कार्यक्रम रहेंगे तथा वर्ष भर कार्यक्रम चलते रहेंगे। 
वर्तमान में जिस प्रकार देश की दुर्दशा की जा रही है, धर्म पर अधर्म का दुश्चक्र चल रहा है। धर्म की स्थापना के लिए वह (दिव्य) आयेगा अवश्य, किन्तु न वह राम के जैसे शास्त्र उठाएगा न कृष्ण बन कर सारथी बनेगा । उसने महाभारत में सारथी बन जो उपदेश दिया वह दोहराने भी न आयेगा, वह (दिव्य) पुंज हमें स्वामी विवेकानन्द के स्मरण, व श्री भगवत गीता के पठन से राह दिखायेगा । अब वह निमित्त बना कर कार्य करता है, कर्म योग के द्वारा हमें अर्जुन बनाएगा, वह (दिव्य) पुंज हमारे अपने भीतर प्रकाश मय रहे। 
यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण, योग्यता व क्षमता विद्यमान है | आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
इस देश को लुटने से बचाने तथा बिकाऊ मैकालेवादी, शर्मनिरपेक्ष मीडिया का एक मात्र सार्थक विकल्प युगदर्पण YDMS की विविधता, व्यापकता व लेखन का परिचय: युगदर्पण मीडिया समूह YDMS में राष्ट्रवाद के विविध विषय के 25 ब्लाग, 5 चेनल, orkut, FB, ट्वीटर etc सहित एक वेब भी है। अपनी पसंद का विषय 25 में से एक लेकर, मिलकर ही हम बिकाऊ मैकालेवादी, शर्मनिरपेक्ष मीडिया को परास्त कर सकते हैं। -तथा "राष्ट्र वादी मीडिया" उसका विकल्प बन सकता है।"वन्देमातरम" को अपना मंत्र बनायें। 
अँधेरे के साम्राज्य से बाहर का एक मार्ग…remain connected to -युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. तिलक रेलन 9911111611 … www.yugdarpan.com
कभी विश्व गुरु रहे भारत की, धर्म संस्कृति की पताका; विश्व के कल्याण हेतू पुनः नभ में फहराये | - तिलक
Post a Comment